विश्व के सबसे बडे लोकतंत्र में राजनीति का हो रहा पतन

नीरज सिंह—

भारत देश विविधताओं से परिपूर्ण है। यहां जनता का राज्य है जिसे प्रजातंत्र या लोकतंत्र के रूप में पुकारा जाता है।आजादी के बाद से लोकतंत्र 67 वर्ष का लंबा सफर तय कर चुका है।आज देश की राजनीतिक हालात बेहद गंभीर हो चला है। विश्व के सबसे बडे लोक तंत्र के जनप्रतिनिधियों को देश के कर्णधार कहें तो अतिश्योक्ति नही होगी। गांधी,नेहरू पटेल, बोस या फिर अम्बेडकर जी के सपनों को आगे ले जाने वाले आज के नेताओं द्वारा जिस प्रकार लोकतंत्र की धज्जियां उडा रहे हैं।उन महान नेताओं की आत्माएं भी रो रही होगीं और चिल्ला चिल्लाकर कह रही होगीं कि हे भारत मां मुझको माफकर दे । मुझे नही पता था कि जो आजादी के बंधन से तुझे मुक्त कर प्यारा सुराज,सुख शांति ओैर प्रेम का स्वरूप देखने को मिलेगा,वह नेस्तनाबूद हो चुका है। और रह गयी है सिर्फ मक्कारी, भ्रष्टाचार,बेईमानी,झूठ फरेब,ठगी,चापलूसी,नैतिक पतन।ये नही मालूम मौजूदा पीढी के नेताओं का ये पर्यायवाची बन जायेगा। नैतिकता,चरित्र,ईमानदार,सच,व परोपकार जैसे शब्द शब्दकोश रह ही नही जायेंगे। होंगे भी तो इन नेताओं के भाषणों में समाहित होकर रह जायेंगें, चुनावी मौसम में बसंत के पतझड की तरह झर कर जमीन में गिरते जायेंगे। जोकि किसी काम के नही होते वेैसे ही इन शब्दों का हाल भी हेै। राजनीति का पतन हो रहा हेै या कहें हो चुका हेै गलत नही होगा। एक बानगी देखिये अपने लोकतंत्र के कानून को ठेंगा दिखाने का काम किया है, देश के बडे नेताओं में शुमार और देश के केन्द्रीय मंत्री रह चुके एनसीपी पार्टी के संस्थापक व अध्यक्ष शरद पवार एक कार्यक्रम में चुनाव नियमों की धज्जियां उडाते कहते हैं,कि एक वोट डालो,फिर स्याही मिटाकर दूसरी जगह वोट डालने जाओ। वहीं दूसरी ओर चुनाव आयोग बराबर चिल्लाकर कह रहा है कि दो स्थानों पर वोट डालना असंवैधानिक है,ऐसा करने पर दण्ड के भागीदार होंगे।आयोग पूछा पवार से तो सफाई में लिखकर जबाब दिया कि मजाक में बिहार में चल रहे विधान सभा चुनाव में किस नेता की कितनी नैतिकता बची है उनके भाषणों से ही जाहिर हो रहा है। एक दूसरे पर अमर्यादित शब्दों का जमकर प्रयोग किया जा रहा है ।यहां तक कि चुनाव आयोग को अपने जबान पर लगाम लगाने की हिदायत देने पडी। देश जनप्रतिनिधि एक बात साफ कर दिया है कि लोकतंत्र की दुहाई लेते लेते मजाक बना कर रख दिया है, इस विशाल लोकतंत्र का क्या इसमें आपको कोई शक!

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *