उत्तर प्रदेश चुनाव में चलेगी बदलाव की लहर !

IMG_20161201_142524नीरज सिंह………

उत्तर प्रदेश में विधान सभा का चुनाव् अपने चरम पर है प्रथम चरण का मतदान कल यानी 11 फरवरी को हो रहा है। जहां समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ रही है वहीं दूसरी ओर भाजपा व बसपा अपने अपने दम पर चुनावी मैदान में है। इस चुनाव किस मुद्दे पर लडे जा रहे हैं, ये सबसे अहम बात सामने है। क्या जनता से सरोकार है इन मुद्दों का या फिर वोट के लिए रिझाने वाले ही मुद्दे हैं।  शिक्षा, बेरोजगारी,पानी, बिजली, सड़क, मकान, कानून व्यवस्था ही आज सबसे अहम मुद्दे हैं, जो जनता से सरोकार रखता है । सभी पार्टियों के घोषणापत्र ये बाते अवश्य दिखेगी। लेकिन क्या चुनाव के बाद इसे लेकर गम्भीर होंगे, एक बड़ा सवाल है! धीरे धीरे चुनाव बढ रहा है वैसे वैसे वोटों का बिखराव  मूल मुद्दे गौड़ होना शुरू हो चुके हैं। जाति, धर्म व क्षेत्रवाद जैसे मुद्दे हावी होने लगे हैं । और वोट का ध्रुवी करण होने लगा है। हालत ये है कि अपराधियों को खुलकर सभी दलों ने टिकट दिया गया । इसमें कोई किसी से पीछे नही है, उन्हें जनता से सरोकार नहीं है सिर्फ सीटें निकालकर सत्ता के लिए लालायित हैं। अगर पिछले सालों के सत्ताधारियों के रिकॉर्ड पर नजर डाले जाएं तो जनता का विकास कम हुआ लेकिन माफियाओं का विकास खूब हुआ । आगे भी यही होना है ये तय है। क्योंकि जिस तरह अपराधियों व माफियाओं को टिकट देकर संरक्षण देने का कार्य सभी दल कर रहे हैं। तो जनता का इनके राज में भला कैसे होगा । जहाँ भाजपा पर हिन्दू वोट बैंक की राजनीति का आरोप है वही कांग्रेस ,बसपा व सपा का मुस्लिम वोटों के लिए मारामारी करते दिख रहे हैं। अपने को मजबूत दिखाने के लिए सपा ने कांग्रेस से गठबंधन कर डाला की हम मुस्लिम वोटों के हकदार हैं । इन्हें पीछे छोड़ते हुए बसपा ने मुस्लिम वर्ग से ही 97 टिकट थमा कर दिखाया की हमारी पार्टी  ही मुस्लिमों का सबसे बड़ा हिमायती है। पूरे चुनाव को जाति व धर्म से जोड़ने का प्रयास हो रहा है। आमजनता को चाहिए की आपको अपने हितों को ध्यान रख कर विकास के लिए ही वोट करना चाहिए जिससे वदलाव हो और तभी यूपी अपराध मुक्त का नारा सार्थक होगा।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *