तिलोई क्षेत्र का युवा कलाकार गायिकी की दुनिया में आजमा रहा किस्मत

ARJUN SINGH BHADURIYA

अमेठी-

“कौन कहता है कि आसमां छेद हो नही सकता,एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों”जैसा शेर सिंहपुर क्षेत्र के पूरे बाबा गंगादास मजरे फूला निवासी युवा कलाकार भानु किशोर तिवारी पर सटीक बैठता है|जिन्होंने अपने गायिकी के हुनर को फेसबुक के जरिये सोशल मीडिया पर डाला जिसे सुनकर कई संगीत कम्पनियाँ इस युवा कलाकार के संपर्क में आयीं हैं और आज लगभग आधा दर्जन भक्ति एवं देशभक्ति व भोजपुरी गीतों के एल्बम बनकर तैयार हैं और शीघ्र ही आम लोगों के पहुँच में होंगे|क्षेत्र के युवा कलाकार के संगीत क्षेत्र में पदार्पण पर बड़ी संख्या में लोगों ने भानु किशोर तिवारी का उत्साहवर्धन किया है|
38 वर्षीय भानु किशोर तिवारी का गायिकी का शौक लगभग 25 वर्ष पुराना है परन्तु सही प्लेटफार्म न मिलने के चलते एक शिक्षक पिता की संतान ने गायिकी का शौक छोड़ निजी व्यवसाय मोटर साइकिल एजेंसी से अपने को जोड़ लिया परन्तु कहते हैं कि जो शौक अन्दर से होता है वह आखिरकार बाहर आ ही जाता है और सेमरौता स्थित बाबा बजाज ऑटोमोबाइल्स के आफिस में बैठकर भानु किशोर तिवारी गीत गाने का अभ्यास करने लगे हालाँकि इस दौरान उन्हें अपने गीत के साथ संगीत का साज नही मिलता था फिर भी वे बिना संगीत के ही गीत गाने का अभ्यास करने लगे|इसी दौरान उन्हें अपनी इस कला को फेसबुक के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने का विचार आया और यहीं से उन्हें अपनी मंजिल मिलने का रास्ता नजर आने लगा|आख़िरकार एक माह पूर्व मुम्बई की एक स्टार म्यूजिकल कंपनी ने भानु किशोर तिवारी की आवाज से प्रभावित होकर इनसे फेसबुक से ही सम्पर्क साधा और बीते एक माह से उस कंपनी के साथ श्री तिवारी के द्वारा गाये भक्ति एवं देशभक्ति व भोजपुरी गीतों की रिकार्डिंग कम्पोजिंग का सिलसिला चल रहा है|इसके अलावा कई अन्य संगीत कम्पनियाँ भी इस युवा कलाकार के हुनर को अपने तारों में समाहित करने के लिए लालायित हैं|भानु किशोर के पिता भगवती प्रसाद तिवारी सेवानिवृत्त शिक्षक की माने तो भानू स्कूल के दिनों से ही गीत संगीत में रूचि रखते थे कई बार उनके इस शौक के लिए घर से लेकर विद्यालय तक डाट भी पड़ती थी फिर भी गीत गाने की धुन कुछ ऐसी होती थी कि अकेले खेतों के बीच गीत गाते थे यही नही रात को जब सभी लोग सो जाते थे तो घर के पीछे के कमरे में अपने को अकेले बंद कर गीत गाने का अभ्यास करते थे इसके लिए भी उन्हें कई बार डाट खानी पड़ी|
बीते 15 दिनों से सिंहपुर क्षेत्र में भानु किशोर तिवारी के द्वारा गाये गए गीतों को लोग सुनकर हैरान हैं कि आखिर इतना अच्छा गायक कलाकार हम लोगों के बीच में था और किसी का ध्यान उसकी तरफ नही गया|आखिरकार सोशल मीडिया के जरिये उसने अपनी पहचान कायम की है|भानु किशोर का हौसला बढाने वालों में उनके छोटे भाई कौशल किशोर तिवारी के आशीष मिश्रा,जितेन्द्र मिश्रा,प्रमोद कुमार,सुनील सिंह,जोनी शुक्ला,शैलेन्द्र वर्मा,शिखर मिश्र आदि शामिल हैं|

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *