सुकन्या समृद्धि योजना में ब्याज दर 9.1 से बढकर हुई 9.2 फीसदी जोधपुर क्षेत्र के डाकघरों में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खुले 25 हजार से ज्यादा खाते

sukanya

        सुकन्या समृद्धि  योजना के प्रति बढते लोगों के आकर्षण के चलते डाक विभाग में अब इससे लोगों को जोड़ने की मुहिम और तेज कर दी है। अब डाक विभाग इसके लिये मेले लगाने से लेकर डाकियों द्वारा पम्पलेट बंँटवाने की योजना पर कार्य कर रहा है । 
  इस संबंध में जानकारी देते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाए कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि सुकन्या समृद्धि  योजना के तहत् अधिकाधिक बेटियों के खाते खोलने हेतु सभी मण्डलाधीक्षकों को स्कूल-काॅलेजों में विशेष कर बालिका विद्यालयों में सम्पर्क करने हेतु कहा गया है। इसके अलावा ग्रामीण स्तर पर सरपंचो से मिलकर लोगों को बेटियों के हक के प्रति जागरूक करने और उनके नाम में खाते खोलने हेतु निर्देशित किया गया है।
     डाक निदेशक श्री यादव ने बताया कि बालिका की उच्चतर शिक्षा और विवाह आदि आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आरंभ सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत बेटी के जन्म से लेकर 10 वर्ष की आयु तक कभी भी किसी भी डाकघर में यह खाता खोला जा सकता है। सामान्यतया यह स्कीम 10 साल तक की बच्चियों के लिए है, पर अधिकाधिक लोगों को इससे जोड़ने हेतु फिलहाल यह उपबंध किया गया है कि 1 दिसंबर 2015 तक खाते उन बच्चियों के नाम भी खोले जा सकते हैं जिनका जन्म 3 दिसंबर, 2003 को या उसके बाद हुआ हो।
इसमें एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 1,000 और अधिकतम डेढ़ लाख रूपये जमा किये जा सकते हैं । जमा धनराशि में आयकर छूट का भी प्राविधान है। निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि सुकन्या समृद्धि योजना में विगत् वित्तीय वर्ष के 9.1 के सापेक्ष इस वर्ष हेतु ब्याज राशि बढा कर 9.2 प्रतिशत कर दी गई है, इससे यह स्कीम और भी लाभप्रद व आकर्षक हो गई है ।
    डाक निदेशक श्री यादव ने बताया कि जोधपुर क्षेत्र  के डाकघरों  में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत वर्तमान में 25  हजार से ज्यादा खाते खोले जा चुके हैं। इससे अधिकाधिक लोगों को जोड़ने हेतु जोधपुर क्षेत्र के विभिन्न डाक उपमण्डलों में 11 अप्रेल, शनिवार को डाक मेले जाने के निर्देश दिए गए हैं।
      गौरतलब है कि सुकन्या समृद्धि योजना के तहत पूरे देश में डाकघरों ने मात्र 2 माह फरवरी-मार्च में  27 लाख से ज्यादा (27,72,309) खाते खोले, जिनमें 310 करोड़ रूपये जमा हुए। जबकि इसी दौरान सभी अधिकृत बैंकों ने मिलकर मात्र 1.8 लाख सुकन्या समृद्धि खाते ही खोले।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *