संग्रामपुर ब्लाॅक प्रमुख पद का अविश्वास प्रस्ताव पारित

अमेठी।

पूर्व कबीना मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के आगे ब्लाक संग्रामपुर में विपक्ष सुना था। सपा सरकार के पतन के बाद अब सत्ता में परिवर्तन का सिलसिला शुरू हो गया। वर्तमान प्रमुख जियालाल कोरी के खिलाफ आविश्वास प्रस्ताव आया था। 39 क्षेत्र पंचायत सदस्य में से 28 क्षेत्र पंचायत सदस्य अविश्वास प्रस्ताव पूर्व प्रमुख एंव क्षेत्र पंचायत सदस्य राजेश सिंह की अगुवाई में लाये थें। जिसमें आधा दर्जन क्षेत्र पंचायत सदस्य अविश्वास प्रस्ताव में 27 नवम्बर को मतदान से कन्नी काट गये।
भारी सुरक्षा बल के बीच सोमवार को क्षेत्र पंचायत समिति संग्रामपुर में प्रमुख जियालाल कोरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान 02 बजे तक हुआ। 39 बी डी सी में 22 बी डी सी मतदान कर प्रमुख जियालाल कोरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मोहर लगा दी। 17 बी डी सी सदस्य मतदान का बहिष्कार किया। जिसमें प्रमुख जियालाल कोरी भी शामिल रहें।
निर्वाचन अधिकारी अमेठी के उपजिलाधिकारी शैलेन्द्र्र कुमार मिश्रा रहे। उन्होने बताया कि 22 बी डी सी सदस्य मतदान किये और 17 बी डी सी सदस्य मतदान प्रक्रिया में शमिल नही हुये। कुल 39 बी डी सी सदस्य ब्लाक संग्रामपुर मे निर्वाचित है।
गौर तलब है कि संग्रामपुर ब्लाक में र्निबिरोध ब्लाक प्रमुख जियालाल कोरी निवासी चंडेरिया चुने गये। इनके खिलाफ बसपा, भाजपा, काग्रेस ने प्रमुख पद के लिये प्रत्याशी चुनाव मैदान में नही उतारा था। सपा के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति ने जिया लाल कोरी को र्निबिरोध प्रमुख संग्रामपुर का निर्वाचित करा दिया।
ब्लाक भादर में अविश्वास प्रस्ताव सपा प्रमुख अखिलेश यादव के खिलाफ बी डी सी सदस्य कृष्ण कुमार जायसवाल लाये थे। लेकिन दोनों भाजपा के नेताओं के साथ अविश्वास प्रस्ताव पारित कराना चाह रहे थे। लेकिन गुटबंदी के चलते अविश्वास प्रस्ताव में शामिल होने वाले आधा दर्जन बी डी सी अधिकारी के समक्ष परेड करने से पहले पाला बदल लिया। और अविश्वास प्रस्ताव की नौबत नही आयी।
वर्तमान समय में अमेठी प्रमुख परशुराम ही सपा के प्रमुख रह गये है। बाकी ब्लाॅक भेटुआ की प्रमुख विमला देवी भी अंदर ही अंदर सपा को अलविदा कह चुकी है। र्सिफ घोषणा बाकी है। अमेठी विधानसभा में प्रमुख के ऊपर भाजपा नजर गडाये है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *